Menu

The Health Collective 

Blog Search

Understanding Panic Attacks

June 9, 2017
पैनिक अटैक एवं पैनिक डिसऑर्डर को समझना 
 
पैनिक अटैक  अचानक  होने  वाले  डर  एवम  घबराहट के  अटैक  होते  हैं . यदि  नीचे  दिए  गए  चिन्हों  में  से  आपको  4 या  4 से  अधिक  चीज़ें  दस  मिनट  के  अंदर  होती  हैं , तोह  आपको  पैनिक  अटैक  हो  सकता  हैं .
 
1. दिल  की  धड़कन  बढ़ना 
2. डर  लगना
3. पसीना  आना 
4. हाथ  कांपना 
5. सांस  फूलना 
6. सांस  अटकना  
7. जिगर  में  दर्द  होना 
8. चक्कर  आना 
9. पेट  दर्द  होना 
10. शरीर  गर्म  होना 
11. खुद  से  दूर  होना 
12. मरने  का  डर 
13. पागल  होने  का  डर 
14. सुन्न  हो  जाना 
पैनिक  अटैक  की  सबसे   खतरनाक  धारणा    यह  होती  हैं  की  उसमे  एक  व्यक्ति  को  यह  प्रतीत  नहीं  होता  की  उसके  साथ  क्या  हो  रहा  हे  एवं  क्यों  हो  रहा  हे . क्यूंकि  यह  अटैक  बिना  वजह  के  होते  हे , और    इनके  आने  का  कोई  वक्त  नहीं  होता , इसीलिए  लोगों  को  लगता  हे  की  या  तोह  उन्हें  दिल का  दौरा  पड़ने  वाला  हे , या  फिर  वह  पागलपन  से  मरने  वाले  हैं  .
वह  यह  सोचने   लगते  हैं  की  उनके  साथ  कुछ  भयानक  या  डरावना  होने  वाला  हैं .
 
पैनिक  डिसऑर्डर  क्या  हैं  ?
पैनिक  डिसऑर्डर  तब  होते  हे  जब  एक  व्यक्ति  को  लगातार  पैनिक   अटैक  आतें  हे , एवं   उसके  अंदर   अटैक  का  भय  घर  करने  लगता  हैं .
आगार  कोई   व्यक्ति  ऐसी  स्तिथि  से  भाग  रहा  हो , तोह  उसे  ‘अग्रोफोबिअ ’ कहते  हैं .
इसमें , एक  व्यक्ति  स्तिथियों  का  भरोसा  नहीं  करना  चाहता  हैं .
 
 
अग्रोफोबिया क्या  हे ?
अग्रोफोबिया   तब  होता  हे  जब  एक  व्यक्ति  कुछ  जगह  तथा  स्तिथियों  में  रहने  से  डरता  हे . इस  डर  से  बचने  के  लिए  वह  निम्नलिखित  चीज़ें  करता  हे .
-इनसे  दूर  रहना 
-ऐसी  स्तिथियों  में  अकेले  न  जा  पाना 
 -इन  स्तिथियों का डर   के  बावजूद  सामना  करना 
इन  लोगों  को  ऐसे  स्तिथियों  से  भी  डर   लगता  हैं  जहाँ  से  बचना   आसान  न   हो  एवं  जहाँ  पर  उन्हें   डॉक्टर  की  सहायता  न  हो . 
 
पैनिक  अटैक  तथा  अग्रोफोबिया   कितना  प्रचलित हे ?
2% बड़ों  में  पैनिक  अटैक  तथा  अग्रोफोबिया   देखा  गया  हे . इसका  मतलब  हर  ५०  लोगों  में  से  1 पैनिक  अटैक  होने  की  सम्भावना  दोनों  पुरुषों  तथा  महिलाओं  में  सामान  हे . किन्तु  अग्रोफोबिअ   होने  की संभावना  पुरुषों  में  महिलाओं  से  ज़्यादा  हे . यह  भी  देखा  गया  हे  की  ज़रूरी नहीं  की जिन  लोगों  को  पैनिक  अटैक  होने  की  सम्भावना  हैं , उन्हें  हमेशा  अग्रोफोबिअ  होगा . 
 
दो  तरीकों  से  पैनिक  अटैक  को  ठीक  किया  जा  सकता  हैं . पहला  हे  कॉग्निटिव  बिहेवियर  थ्योरी  तथा  दूसरा  दवाइयों  के  साथ  ठीक  करा  जा  सकता  हैं .
 
1. कॉग्निटिव  बिहेवियर  थेरेपी  (CBT)
इसके  भीतर  दो  तरह  के  इलाज  होते  हैं . पहले  में  व्यक्ति  का  इलाज  समूह  में  होता  हे ,   दुसरे  में  इकलौता  इलाज  होता  हैं . इसके  तहत  निम्न  चीज़ें  सिखाई  जाती  हैं .
-पैनिक  एवं  भय  के  विचारों  के  बारें  में  जागरूकता  बढ़ाना 
-पैनिक  के  बारे  में  अपने  विचारों  पर  ध्यान  देना  एवं  उन्हें  धीरे  धीरे  बदलना 
-उन   जगहों  के  बारें  में  बताना  जहाँ  पैनिक   बढ़ता  हे 
-शरीर  में  पैनिक  के  फलस्वरूप  शारीरिक  बदलाव  के  बारे  में   बताना 
-बढ़ती  सांस  एवं  एंग्जायटी  को  ठीक  करने  के  तरीके  सिखलाना 
 
 
2. मेडिसिन 
Antidepressants  एवं  बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस  का  सेवं  से  पैनिक  एवं  अग्रोफोबिया   ठीक  किया  जा  सकता  हैं 
परन्तु  इन  मेडिसिन  का  सेवं  डॉक्टर  के  कहने  के  बाद  ही  करना  चाहिए  क्यूंकि  वही  सही  मात्रा  एवं  साइड  इफ़ेक्ट  के  बारे  में  बता  सकते  हैं 
 
 
क्या  इन  सब  से  ठीक  हुआ  जा  सकता  हे ?
CBT ट्रीटमेंट  के  बाद  3 में  से  1 व्यक्ति  ठीक  पाया  गया  हे . 6 में  से  1 व्यक्ति  दवाइयों  से  ठीक  किये  जातें  हे . इसीलिए  इस   ट्रीटमेंट  को  दवाइयों  से ज़्यादा  लाभदायक माना जाता हे.  कॉग्निटिव  बिहेवियर  थेरेपी चरण के कई दिनों बाद भी व्यक्ति नयी चीज़ें सीखता रहता हैं एवं अपना जीवन व्यतीत करता रहता हे. 
 


Translation by कोमल वैष्णव  from this post on our mental health section, reproduced with kind permission from This Way Up, Australia, an online not-for-profit initiative of the Clinical Research Unit for Anxiety and Depression, University of New South Wales at St Vincent's Hospital, Sydney 
 

Go Back

Comment